बुर्ज खलीफा के ये रोचक तथ्य शायद ही जानते होंगे। Fact of burj khalifa



नमस्कार दोस्तों आइए जानते हैं Burj khalifa के बारे में 

जी इंडिया हिंदी ब्लॉग में आपका स्वागत है। 

आज के इस आर्टिकल मे मै आपको बुर्ज खलीफा के बारे में बताने जा रहा हूं जो कि दुनिया की सबसे ऊंची बिल्डिंग है यह इमारत दुबई मे स्थित है ।अगर आप इस इमारत से नीचे देखिएगा तो बगल के सारी बिल्डिंग बहुत छोटे छोटे नजर आते हैं।

बुर्ज खलीफा की ऊंचाई 830 मीटर है।

और इसमें 163 फ्लोर हैं। 

इसे बनाने के लिए 6 साल का समय दिया गया था।

जिसे बनाने के लिए 6 जनवरी 2004 को शुरुआत कर दिया गया था। 

प्रॉपर्टी डेवलपर्स की माने तो इसे बनाने के लिए अमेरिकन आर्किटेक्ट को यह काम दिया गया था। 

बुर्ज खलीफा का कंस्ट्रक्शन का काम साउथ कोरिया की कंपनी सैमसंग को दिया गया था।

इस बुर्ज खलीफा का जो बिल्डिंग है, इसके नाम कई रिकॉर्ड हैं, जैसे दुनिया का टॉलेस्ट मैन मेड स्ट्रक्चर

शुरुआती में इस टावर का नाम बुर्ज टावर रखा गया था। बाद में इसे बुर्ज खलीफा के नाम पर रख दिया गया क्योंकि खलीफा आबू धाबी के प्रेसिडेंट थे जिन्होंने इसे बनाने में काफी फाइनेंसियल मदद किया था। 

दुबई में बहुत ज्यादा गर्मी पड़ती है और साथ ही इतनी ऊंची बिल्डिंग में कितनी गर्मी पड़ेगी इसका अंदाजा आप खुद लगा सकते हैं।

यह गर्मी का तापमान लगभग 98 डिग्री सेंटीग्रेड तक हो जाता था। इतनी गर्मी में किसी भी इंसान का रहना इंपॉसिबल था।

इसके लिए इस बिल्डिंग के बाहर एक ऐसा कांच का layer लगाया गया जो कि इस बिल्डिंग पर पड़ने वाली धूप को reflect करें। 

इस कांच का काफी अच्छा प्रभाव दिखा जिससे building के अंदर का तापमान काफी कम होगया। 

यह दुनिया के सबसे ऊंची बिल्डिंग है। अगर इससे feet में नापे तो 2716 फीट ऊंची है। 

इसका खर्च की बात करें तो 114 अरब रुपए का खर्च आया था।

Burj Khalifa बिल्डिंग इतनी ऊंची थी कि इसके ऊपर सीमेंट यानी कि जिससे हम लोग मसाला बोलते हैं, वह अगर ऊपर ले जाया जाता था तो यह ले जाते ले जाते रास्ते में ही जम जाता था 

इसके लिए एक अलग से पाइप यानी पंप करने वाला मशीन लाया गया। जिसके द्वारा सीमेंट को ऊपर भेजा जाता जाने लगा।

यह बिल्डिंग इतनी ऊंची थी कि इस पर क्रेन ऑपरेटर ऊंचाई पर काम करने से मना कर दिए थे। तब दुनिया के अलग-अलग देशों से क्रेन ऑपरेटर को बुलाया गया था। जिन्हे ऊंचाई पर काम करने का प्रैक्टिस था।

इसमें लगभग 12000 हर दिन काम करते थे।

इस बिल्डिंग में 35000 लोग रह सकते हैं। 

इस बिल्डिंग को 4 जनवरी 2010 को ओपन किया गया था।

इसमें जो लिस्ट लगा हुआ है वह दुनिया का सबसे तेजी से चलने वाली लिफ्ट है।

बुर्ज खलीफा आइफ़िल टावर से 3 गुना ऊंचा है।

इसे 2004 में बनाना शुरू किया गया था और ठीक 6साल बाद  2010 में बना कर कंप्लीट कर दिया गया।

मुझे आशा है कि यह पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी तो please इसे शेयर करे और कॉमेंट जरूर करे।और gindiahindi.com पर visit करते रहें।

धन्यवाद।

SHARE

Gautam kr. Suraj

Hi. I’m CEO/Founder of G India Hindi blog. I like to write bloging,i am Web Developer, Business Enthusiast, Speaker, Writer. Inspired to make things looks better, and i like to provide you knowledge.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment

If you have any doubts. Let me know.